डूबते सूरज का तबस्सुम

rachel-cook-2313-unsplash
Photo by Rachel Cook on Unsplash

 

अर्श-ए-सिफ़र से शनासाई थी मेरी…

लेकिन आज डूबते सूरज का तबस्सुम देखा। मुरझाते फूल को हसते देखा। और तनहा पंछी को गाते सुना।

अँधेरे के पंखों पर शरर-ए -ज़ीस्त को ठहरते देखा।

बीते लम्हो का ज़िक्र नहीं था कही भी। …

खुदा की तोहमत नहीं थी कही!

ए’तिमाद, रिफ़ाक़त, माज़रत का कही कोई निशाँ नहीं !
ये ज़िन्दगी जैसे गुलज़ार बन गयी!

अनकही लफ्ज़ जो गुम थे दिल के गिरह में कही,

आज ज़िन्दगी की तरन्नुम बन गए !

शायद कोई असरार था मेरी मोहब्बत के लफ्ज़ में कही
कोई अफसाना था मुकम्मल मेरे रग़बत में कही। ….

 

Meanings of Urdu words : ))

अर्श-ए-सिफ़र- The emptiness of the sky

शरर-ए -ज़ीस्त- spark of life

ए’तिमाद- trust

असरार- secret

माज़रत- apology, excuse

रग़बत- affection

 

©ananyagoswami

4 thoughts on “डूबते सूरज का तबस्सुम

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.